नींद नहीं आने से हैं परेशान, तो सोने से पहले करें इन चीजों का सेवन

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp

दुनिया में कई ऐसे लोग हैं जिन्हें बिस्तर पर जाते ही नींद आ जाती है और ये किसी वरदान से कम नहीं है लेकिन वहीं दूसरी ओर कई ऐसे लोग भी है जिन्हें नींद नहीं आती है और इस कारण उन्हें काफी परेशानी होती है और साथ ही उनके सेहत पर भी बुरा असर पड़ता है. आपको बता दें कि नींद की कमी के कई कारण हो सकते हैं, जैसे कि तनाव, प्रकाश के संपर्क में आना और लगातार नींद की कमी से जूझते रहना. इसके अलावा हम खुद को एनर्जेटिक रखने के लिए चाय और कॉफी का सेवन करते है लेकिन इनका अधिक मात्रा में सेवन नींद की कमी का कारण बनता हैं.

लेकिन नींद नहीं आने की समस्याओं का इलाज भी है. क्या आप जानते हैं कि कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ भी हैं जो आपकी इस परेशानी का हल साबित हो सकते हैं. और इनके सेवन से आपको अच्छी नींद लेने में मदद मिलेगी. अगर आपको भी नींद नहीं आती और इससे जुड़े परेशानियों का सामना करना पड़ता है तो ये खबर आपके लिए है.

हल्दी वाला गर्म दूध : इस लिस्ट में सबसे पहला नाम हल्दी वाला गर्म दूध का है. यूं तो हल्दी वाले दूध के कई फायदे हैं पर बहुत कम लोगों को ही यह पता होगा कि हल्दी वाला गर्म दूध नींद नहीं आने का सबसे बेहतर इलाज है. आपको बता दें कि हल्दी वाला गर्म दूध पीने से मन शांत महसूस करता है और इससे नींद भी जल्दी आती है. कहा जाता है कि इसमें ऐसे गुण पाए जाते हैं जो तनाव से मुक्ति दिलाते हैं जिससे नींद आने में आसानी होती है.

चिकन : इस लिस्ट में दूसरा नाम चिकन का है. आपको बता दें कि मांस की चीजों में अधिक मात्रा में ट्रिप्टोफैन पाया जाता है और यह एक आवश्यक अमीनो एसिड है जो हमें सोने में मदद कर सकता है. चिकन और टर्की दोनों ही प्रचुर प्रोटीन के स्त्रोत हैं. अब आप समझ सकते हैं कि मांस के सेवन के बाद आप थका हुआ, बोझिल और नींद क्यों महसूस करते हैं.

सफ़ेद चावल : बहुत लोगों को यह तो पता है कि चावल में भरपूर मात्रा में कार्बोहाइड्रेट पाया जाता है और इससे फैट बढ़ता है पर क्या आप जानते हैं कि सफ़ेद चावल के सेवन से नींद आने में काफी मदद मिलती है. कार्बोहाइड्रेट से भरपूर यह खाद्य पदार्थ नींद को प्रेरित करने में मदद करता है. शोध बताते हैं कि अगर सोने से एक घंटे पहले हाई ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले खाद्य पदार्थों का सेवन किया जाए तो नींद अच्छी आती है. ऐसा एक अध्ययन में पाया गया है कि ज्यादा चावल का सेवन करने वाले लोग बेहतर नींद लेते हैं.

कैमोमाइल चाय : शहद के रंग वाली कैमोमाइल चाय में एपिगेन होता है जो नींद को बढ़ावा देने में मदद करता है. एपिगेनिन दिमाग में कुछ रिसेप्टर्स को एक्टिव करता है. यह तनाव को कम करता है जिससे कि नींद जल्दी आती है. कैमोमाइल चाय का सेवन करने वाले लोगों में नींद की गुणवत्ता में भी सुधार पाया गया है.

केला : बात करें अगर केला कि तो केले में भी ट्रिप्टोफैन अमीनो एसिड प्रचुर मात्रा में पाया जाता है. एक मध्यम आकार के केले में 11 मिलीग्राम ट्रिप्टोफेन पाया जाता है. साथ ही इसमें मैग्नीशियम भी होता है. ये दोनों पोषक तत्व आपको आसानी से सो जाने में मदद कर सकते हैं क्योंकि मैग्नीशियम शरीर में एक शांत तंत्र को सक्रिय करता है.